आईपीओ कब बेच सकते हैं: जानिए क्या हैIPO शेयर बेचने की प्रक्रिया, ध्यान रखने योग्य बातें

5/5 - (1 vote)

आईपीओ खरीदना और बेचना इन्वेस्टमेंट के इंपोर्टेंट पहलू हैं। एक बार जब आपको अलॉटमेंट कर दिया जाता है तो आईपीओ शेयर आपके डिमैट अकाउंट में स्टोर हो जाते हैं। ज्यादा से ज्यादा लाभ के लिए आपको उन्हें सही समय पर बेचना चाहिए। यह आर्टिकल आपको उन चीजों पर गाइड करेगा, जिन पर आपको आईपीओ बेचने से पहले विचार करना चाहिए और यह बताएगा कि आईपीओ कब बेच सकते हैं।

आईपीओ कब बेच सकते हैं?

फाइनेंशियल लक्ष्य पर डिपेंड होना-आपके मन में उत्पन्न होने वाला एक इंपोर्टेंट प्रश्न यह है कि आईपीओ कब बेच सकते हैं, तो हम आपको बताते हैं कि शेयर बेचना पूरी तरह से आपके फाइनेंशियल लक्ष्यों पर डिपेंड करता है। हालांकि, आईपीओ शेयर बेचने से पहले आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि उपयोग की गई बिक्री रणनीति के बावजूद आपको बाजार में बेचने और बाहर निकलने का फैसला करते समय कितना मुनाफा मिलता है।

अलॉटमेंट होने पर-आईपीओ कब बेच सकते हैं, हम आपको बता दें कि जब आपका आईपीओ अलॉटमेंट हो जाता है तब आईपीओ के शेयर आपके डिमैट अकाउंट में आ जाते हैं। उन आईपीओ शेयर्स की फिर स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग होती है। उसके बाद ऑन आईपीओ शेयर्स को आप मार्केट कीमत में बेच सकते हैं या फिर आपका डिमैट अकाउंट है जिस कंपनी में है, उसे ब्रोकर को फोन करके आपके आईपीओ शेयर्स बेचने के लिए बोल सकते हैं।

लिस्टिंग डे पर-निवेशक IPO की लिस्टिंग डे पर अपने IPO शेयर बेच सकते हैं, क्योंकि उस समय साल के अंत की तुलना में कीमतें ज्यादा होती हैं। आईपीओ कब बेच सकते हैं, बस यह ध्यान रखें कि IPO शेयर बेचने का कोई सही समय नहीं होता है क्योंकि वह अपने फाइनेंशियल लक्ष्य के आधार पर एक निवेशक से दूसरे निवेशक के लिए अलग हो सकते हैं। एक और इंपॉर्टेंट बात यह है कि मार्केट से बाहर निकालने के लिए सही समय पर सही विक्री रणनीति लागू करना जरूरी है।

लिस्टिंग के बाद IPO शेयर बेचे या करें होल्ड

आईपीओ में लिस्टिंग गेन के बाद मुनाफा वसूली अक्सर देखने को मिलती है। इसके पीछे इन्वेस्टर्स का नजरिया मायने रखता है क्योंकि कई लोग सिर्फ लिस्टिंग डे पर तगड़ा रिटर्न लेकर शेयर बेचते हैं। आईपीओ का कब बेच सकते हैं, अगर आपका नजरिया सिर्फ लिस्टिंग गेन का नहीं है तो अच्छे मुनाफे के लिए कुछ बातों पर जरूर गौर करना चाहिए।

  1. आईपीओ कब बेच सकते हैं, बता दें कि कंपनी का कारोबार, कारोबारी भविष्य आईपीओ का साइज, आईपीओ का मूल्यांकन ऐसे अहम फैक्टर हैं, जो कंपनी की लिस्टिंग के बाद आईपीओ के शेयरों का भविष्य तय करते हैं।
  2. यह सभी पहलू फंडामेंटल एनालिसिस के तहत आते हैं। आईपीओ कब बेच सकते हैं, बता दें कि किसी भी इश्यू में इन्वेस्टमेंट करने से पहले कंपनी के कारोबार के बारे में जानना चाहिए। जैसे की कंपनी क्या काम करती है और उस सेक्टर में कंपनी की क्या सिचुएशन है। इससे कंपनी के कारोबारी भविष्य का पता चलता है।
  3. अगर कंपनी इन सभी चीजों पर अच्छा करती है तो फ्यूचर में बेहतर तरीके से ग्रोथ करेगी और इसका असर कंपनी की आय पर पड़ेगा।

यह भी पढ़ें-

Leave a Comment